एकता कपूर ने खोला अपने जीवन का वो राज, जिसे सुनकर आपको भी नहीं होगा यकीन, चैनल के मालिक मेरे साथ…

loading...

एकता कपूर टीवी व सीरियल जगत का जाना माना नाम है। वहीं आपको बता दें कि एकता कपूर भारतीय टीवी और फिल्मों की निर्माता हैं और साथ ही इनकी प्रोडक्शन कंपनी है बालाजी टेलीफिल्मस जिसकी वो ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर और क्रिएटिव डायरेक्टर हैं। उन्हें 2012 में एशिया के सोशल इंपावरमेंट अवार्ड-फ्रीडम थ्रु एजुकेशन से सम्मानित किया जा चुका है। एकता का जन्म मुंबई में हुआ था। उनके पिता का नाम जीतेंद्र है जो कि अपने समय के मशहूर अभिनेता रहे हैं। उनकी मां का नाम शोभा कपूर है।

एकता कपूर की सीरियल कुछ ज्‍यादा ही मशहूर होते हैं इन्‍होंने अपने करियर की शुरूआत में ये सीरियल सास भी कभी बहू थी, कहानी घर घर, कसौटी जिंदगी की, कहीं किसी रोज, पवित्र रिश्ता, बड़े अच्छे लगते हैं की जैसी सीरियल बनाकर प्रचि‍लत हो गई। वहीं उसके बाद मोहब्बतें, कुमकुम भाग्य जैसे सीरियल को कोई कैसे भूल सकता है। ये टीवी के सबसे चर्चित शो रह चुके हैं लेकिन वो बताती है कि उन्‍हें अपने करियर के शुरुआती दौर में उन्हें काफी स्ट्रगल करना पड़ा था।

इतना ही नहीं यहां तक की उनके कैरियर के शुरूआती दौर में कोई भी चैनल का मालिक उनके साथ शो के सिलसिले में मिलना ही नहीं चाहता था। हाल ही में एकता एक टीवी शो में पहुंची थी जहां उन्होंने खुद के स्ट्रगल के बारे में बात की। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एकता कपूर अभिनेता जितेंद्र की बेटी है लेकिन अब वो अपने स्‍ट्रगल वाले दिन को पार करके टेलीविजन जगत का जाना-माना नाम बन चुकीं।

एकता कपूर स्टार प्लस के शो ‘टेड टॉक्स इंडिया नई सोच’ में आई थीं जहां उन्‍होंने कहा है कि जीवन अच्छा था, लेकिन मेरे पास कोई वैकल्पिक योजना नहीं थी। मेरे पास कोई और रास्ता नहीं था। मैंने टीवी सीरियल बिजनेस शुरू करने का फैसला लिया। लेकिन इसके बाद शुरूआत के समय में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा इतना ही नहीं मुझसे कोई चैनल का मालिक मिलना तक नहीं चाहता था। कुछ मीडिया प्रोफेशनल ने मेरी परियोजनाओं को मेरे पिता से जोड़कर देखा और एक ने यहां तक पूछा, “क्या आप बेटी के शौक के लिए पैसे लगा रहे हैं?”

इतना ही नहीं आपको बता दें कि एकता कपूर सीरियल के साथ बॉलीवुड फिल्मों का भी निर्माण किया है। इन्होंने बाॅलीवुड फिल्मों के प्रोडक्शन में 2001 में आई फिल्म क्योंकि मैं झूठ नहीं बोलता से कदम रखा। इसके बाद संजय गुप्ता की फिल्म शूटआउट एट लोखंडवाला की वे को-प्रोड्यूसर रहीं। मिशन इंस्तांबुल और ईएमआईःलेना है तो चुकाना पड़ेगा में भी काम किया।

Loading...